[Original] Krishna Chalisa PDF डाउनलोड करे : जय यदुनन्दन जय जगवन्दन

मित्रों आज इस पोस्ट में हम आपके लिए फ्री में krishna chalisa pdf का डाउनलोड लिंक निचे दिए है | shri krishna chalisa pdf डाउनलोड करने के लिए आप निचे दिए गये लिंक पर क्लिक करके डाउनलोड कर सकते है |

Krishna Chalisa PDF डाउनलोड करे जय यदुनन्दन जय जगवन्दन

कृष्ण चालीसा || Krishna Chalisa PDF Download

श्री कृष्ण चालीसा के माध्यम से श्री कृष्ण को प्रसन्न किया जाता है| कृष्ण चालीसा में भगवान कृष्ण के महिमा और गुना का बखान किया गया हैजिसके कारण मुख्य रूप से जन्माष्टमी के दिन भगवान कृष्ण के जन्मदिन पर भक्त  कृष्ण चालीसा का उच्चारण करते हैं| श्री कृष्ण भगवान के नाम अनेक हैं – कृष्णा,मकसूदन,माखन चोर,कृष्ण कन्हैया,नंद के लाल,नंदकिशोर, घनश्याम,गोपाल आदि नाम प्रसिद्ध है| 

सनातन धर्म के भक्ति स्रोतों के अनुसार जो भक्त श्री कृष्ण चालीसा का उच्चारण करता है, उनके ऊपर भगवान श्री कृष्णा अपनी दया और कृपा दिखाते हैंतथा वह श्री कृष्ण के परम भक्ति का पात्र बन जाता है |अतः यदि आप भी श्री कृष्ण चालीसा इन हिंदी PDF को डाउनलोड करना चाहते हैंतो नीचे दिए गए लिंक से श्री कृष्ण चालीसा PDF डाउनलोड कर सकते हैं |

!! दोहा !!

बंशी शोभित कर मधुर,नील जलद तन श्याम।

अरुण अधर जनु बिम्बा फल,पिताम्बर शुभ साज॥

जय मनमोहन मदन छवि,कृष्णचन्द्र महाराज।

करहु कृपा हे रवि तनय,राखहु जन की लाज॥

!! चौपाई !!
जय यदुनन्दन जय जगवन्दन।जय वसुदेव देवकी नन्दन॥

जय यशुदा सुत नन्द दुलारे।जय प्रभु भक्तन के दृग तारे॥

जय नट-नागर नाग नथैया।कृष्ण कन्हैया धेनु चरैया॥

पुनि नख पर प्रभु गिरिवर धारो।आओ दीनन कष्ट निवारो॥

वंशी मधुर अधर धरी तेरी।होवे पूर्ण मनोरथ मेरो॥

आओ हरि पुनि माखन चाखो।आज लाज भारत की राखो॥

गोल कपोल, चिबुक अरुणारे।मृदु मुस्कान मोहिनी डारे॥

रंजित राजिव नयन विशाला।मोर मुकुट वैजयंती माला॥

कुण्डल श्रवण पीतपट आछे।कटि किंकणी काछन काछे॥

नील जलज सुन्दर तनु सोहे।छवि लखि, सुर नर मुनिमन मोहे॥

मस्तक तिलक, अलक घुंघराले।आओ कृष्ण बांसुरी वाले॥

करि पय पान, पुतनहि तारयो।अका बका कागासुर मारयो॥

मधुवन जलत अग्नि जब ज्वाला।भै शीतल, लखितहिं नन्दलाला॥

सुरपति जब ब्रज चढ़यो रिसाई।मसूर धार वारि वर्षाई॥

लगत-लगत ब्रज चहन बहायो।गोवर्धन नखधारि बचायो॥

लखि यसुदा मन भ्रम अधिकाई।मुख महं चौदह भुवन दिखाई॥

दुष्ट कंस अति उधम मचायो।कोटि कमल जब फूल मंगायो॥

नाथि कालियहिं तब तुम लीन्हें।चरणचिन्ह दै निर्भय किन्हें॥

करि गोपिन संग रास विलासा।सबकी पूरण करी अभिलाषा॥

केतिक महा असुर संहारयो।कंसहि केस पकड़ि दै मारयो॥

मात-पिता की बन्दि छुड़ाई।उग्रसेन कहं राज दिलाई॥

महि से मृतक छहों सुत लायो।मातु देवकी शोक मिटायो॥

भौमासुर मुर दैत्य संहारी।लाये षट दश सहसकुमारी॥

दै भिन्हीं तृण चीर सहारा।जरासिंधु राक्षस कहं मारा॥

असुर बकासुर आदिक मारयो।भक्तन के तब कष्ट निवारियो॥

दीन सुदामा के दुःख टारयो।तंदुल तीन मूंठ मुख डारयो॥

प्रेम के साग विदुर घर मांगे।दुर्योधन के मेवा त्यागे॥

लखि प्रेम की महिमा भारी।ऐसे श्याम दीन हितकारी॥

भारत के पारथ रथ हांके।लिए चक्र कर नहिं बल ताके॥

निज गीता के ज्ञान सुनाये।भक्तन ह्रदय सुधा वर्षाये॥

मीरा थी ऐसी मतवाली।विष पी गई बजाकर ताली॥

राना भेजा सांप पिटारी।शालिग्राम बने बनवारी॥

निज माया तुम विधिहिं दिखायो।उर ते संशय सकल मिटायो॥

तब शत निन्दा करी तत्काला।जीवन मुक्त भयो शिशुपाला॥

जबहिं द्रौपदी टेर लगाई।दीनानाथ लाज अब जाई॥

तुरतहिं वसन बने ननन्दलाला।बढ़े चीर भै अरि मुँह काला॥

अस नाथ के नाथ कन्हैया।डूबत भंवर बचावत नैया॥

सुन्दरदास आस उर धारी।दयादृष्टि कीजै बनवारी॥

नाथ सकल मम कुमति निवारो।क्षमहु बेगि अपराध हमारो॥

खोलो पट अब दर्शन दीजै।बोलो कृष्ण कन्हैया की जै॥

!! दोहा !!

यह चालीसा कृष्ण का,पाठ करै उर धारि।

अष्ट सिद्धि नवनिधि फल,लहै पदारथ चारि॥

krishna chalisa pdf

श्री कृष्ण चालीसा pdf – Download

Related Search – कृष्ण चालीसा,श्री कृष्ण चालीसा,कृष्ण चालीसा इन हिंदी,कृष्ण चालीसा इन हिंदी pdf,श्री कृष्ण चालीसा इन हिंदी,कृष्ण चालीसा pdf,कृष्ण चालीसा डाउनलोड,श्री कृष्ण चालीसा pdf,श्री कृष्ण चालीसा pdf etc.

Note – If the download link of श्री कृष्ण चालीसा | Shri Krishna Chalisa PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment. If श्री कृष्ण चालीसा | Shri Krishna Chalisa is a copyright material Report This by sending an email to Techpk67@gmail.com. We will not be providing the file or link of a reported PDF or any source for downloading at any cost. Always Visit – Allchalisapdf.com 

Spread the love

1 thought on “[Original] Krishna Chalisa PDF डाउनलोड करे : जय यदुनन्दन जय जगवन्दन”

Leave a Comment